AMAR UJALA

एक्जिमा में बहुत फायदेमंद है शहद, जानिए इस्तेमाल करने का तरीका


हाइलाइट्स

एक्जिमा की समस्या में शहद का इस्तेमाल काफी फायदेमंद होता है.
स्किन या रैशेज पर शहद अप्लाई करने से पहले उसकी क्वालिटी जान लें.
एक्जिमा से प्रभावित स्थान पर शहद लगाने से पहले उस स्थान को अच्छे से साफ कर लें.

Use of Honey In Eczema Problem : क्या आप जानते हैं, शहद का इस्तेमाल केवल चीजों में मिठास लाने के लिए ही नही बल्कि कई गंभीर समस्याओं में एक औषधि के रूप में भी लंबे समय से किया जाता रहा है. हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार कई रिपोर्ट्स में शहद का इस्तेमाल एक्जिमा में काफी फायदेमंद साबित हुआ है. एक्जिमा एक इम्यून-मीडिएटेड स्किन डिसऑर्डर है, जिसमें इम्यून सिस्टम काफी सेंसिटिव होता है. इस समस्या में शहद का इस्तेमाल काफी कारगर और फायदेमंद हो सकता है. शहद में एंटीऑक्सीडेंट प्रॉपर्टीज के साथ-साथ एंटीमाइक्रोबियल, एंटी इन्फ्लेमेटरी और इम्यूनोमॉड्यूलेटरी गुण मौजूद होते हैं, जो स्किन को तेजी से ठीक करने में सहायक हैं. अगर आप भी एक  एक्जिमा की समस्या से परेशान हैं, तो हम आपके लिए बेहद फायदेमंद उपचार और किफायती उपचार लेकर आए हैं. आइए जानते हैं, 

ये भी पढ़ें: डायबिटीज के ये लक्षण भी हमारी हेल्थ के लिए हो सकते हैं खतरनाक, यहां जानें सब कुछ

एक्जिमा की समस्या में किस प्रकार का शहद करें इस्तेमाल :
वैरी वैल हेल्थ डॉट कॉम के अनुसार एक्जिमा की समस्या में शहद का इस्तेमाल करते समय उसकी क्वालिटी और ग्रेड का ध्यान अवश्य रखें. घावों और स्किन संबंधित समस्याओं में सामान्य शहद जो बाजार में उपलब्ध होता है, वह ज्यादा उपयोगी साबित नहीं होता है. इसीलिए एक्जिमा के लिए सबसे बेस्ट मनुका और कनुका शहद का इस्तेमाल कर सकते हैं. 

एक्जिमा की समस्या में शहद को इस्तेमाल करने की सही विधि
सबसे पहले एक्जिमा के रैशेज पर शहद का इस्तेमाल करने से पहले उसकी क्वालिटी का ख्याल रखें ताकि किसी भी साइड इफेक्ट्स का खतरा ना हो.

बड़ों के लिए ऐसे करें इस्तेमाल
एक्जिमा से प्रभावित स्थान को पानी से साफ करके अच्छे से पोंछ लें और पोंछने के बाद स्किन पर शहद की एक पतली परत अप्लाई कर लें.
शहद को स्किन पर अप्लाई करने के बाद उसे एक बैंडेज से ढक लें और कुछ घंटों तक लगा रहने दें या रातभर के लिए छोड़ दें.
कुछ घंटों बाद बैंडेज हटाकर संक्रमित स्थान को अच्छे से साफ करें. 

ये भी पढ़ें: Colon cancer: क्या होता है कोलोन कैंसर जिससे फुटबॉल के महान खिलाड़ी पेले हैं पीड़ित, जानिए इसे रोकने के उपाय

शिशु और छोटे बच्चे ऐसे करें इस्तेमाल
शिशुओं और छोटे बच्चों में शहद के कारण बोटूलिज्म का खतरा बढ़ सकता है, जो एक गंभीर इंफेक्शन है. इसीलिए छोटे बच्चों के घावों पर शहद अप्लाई करना नुकसानदायक हो सकता है. इसीलिए उनके घावों पर शहद का इस्तेमाल करने से पहले एक्सपर्ट की राय लेना ना भूलें. 

Tags: Health, Lifestyle


Source link

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also
Close
Back to top button