AMAR UJALA

जयंत चौधरी बोले- बीजेपी ने जनता से की वादाखिलाफी, शिवपाल-अखिलेश को लेकर कही बड़ी बात….

राष्ट्रीय लोक दल के प्रमुख जयंत चौधरी ने खतौली जीतने के बाद भाजपा पर बड़ा प्रहार किया है। भारत समाचार से बात करते हुए उन्होंने कहा कि सरकार ने खतौली जीतने के लिए अपनी पूरी ताकत झोंक दी थी। सरकार के बड़े मंत्रियों ने और वरिष्ठ पदाधिकारी ने कैम्प करके वोट मांगने का काम किया था। लेकिन यह जेट नहीं हासिल कर पाए। खतौली हार का विश्लेषण भाजपा ने कर लिया होगा। इस चुनाव में सरकार को जनता ने एहसास दिलाया है।

सरकार पर हमला बोलते हुए जयंत ने कहा सरकार ने पूरी ताकत झोंकी और खतौली में बड़े मंत्रियों को भेजा पार्टी के बड़े वरिष्ठ पदाधिकारी कैंप किए, खुद मुख्यमंत्री वहां आए और उन्होंने जब वोट की अपील की तो उन्होंने मुख्य तौर पर अह अपने चुनाव अभियान में सिर्फ दंगो का जिक्र किया था और प्रदेश की कानून व्यवस्था पर वोट मांगा था।

अब इसकी तुलना में जब हम गए प्रचार में गांव-गांव गए तो सार्वजनिक तौर पर मैंने कहा अगर आप गन्ने का अच्छा भाव चाहते हो तो विपक्ष को मजबूत कीजिए तो यानी जब नतीजा खुला है 22 हजार वोटो से हमारी जीत दर्ज हुई है तो जनमत का भी अहसास सरकार को हो जाना चाहिए। किस मुद्दे पे सरकार के खिलाफ लोगों ने वोट किया है. जो सरकार अभी साढ़े चार साल रहनी है तो सरकार बदलनी नहीं है। लेकिन उस सरकार को एहसास दिलाने के लिए जनता ने हमारे पक्ष मेंवोट किया कि गन्ने का भाव घोषित होना चाहिए।

लखीमपुर कांड पर सरकार को लिया आड़े हाथ !

आगे जयंत ने कहा कि जैसे किसान की लागत बढ़ रही है तो उसका मूल्य भी बढ़ना चाहिए। मंत्री सुरेश राना ओर तंज कस्ते हुए उन्होंने कहा कि जब गन्ना मंत्री हार गए तो कैसे गन्ने का मूल्य बढ़ता। ये जो बड़ी जीत हमने दर्ज की है ये बहुत एक सरकार के लिए बहुत बड़ी हार है कोई समझता नहीं है कि उपचुनाव सरकार हार सकती है। ये भाजपा की सेट अगर हमने ली है जनता ने हमें दी है तो इस विश्वास के साथ दी है के जनता को कुछ लाभ मिलेगा और इसलिए हमारी जिम्मेदारी बनती है विपक्ष में हम भले बैठे हो विपक्ष की आवाज भी सुननी जानी चाहिए।

लखीमपुर कांड पर हमलावर होते हुए उन्होंने कहा कि एक साल होने के बाद चार मृतक किसानों के घर में चार सरकारी नौकरी सीएम योगी नहीं दे सकते। जिन परिवारों के साथ देश की भावनाएँ जुडी हुई है ऐसे चार परिवारों का भी ख्याल सीएम नहीं रख सकते। एक साल बाद भी 13 लोगों को दस दस लाख रुपए मुआवजा जो घायल हुए 4 मृतक किसानों नौकरी नहीं मिली यह सर्कार की सबसे बड़ी नाकामी है।

रामपुर में सपा को वोट डालने वालो को रोका गया- जयंत

रामपुर चुनाव के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा ने लोकतांत्रिक मूल्यों का गला घोटा है। जो हमारे साथ मजबूती से आ रहे थे उन्हें डराया और धमकाया गया। बड़े बड़े अधिकारियों ने खुले आम वोटरों को धमकाने का काम किया डराने का काम किया वापस भेजने का काम किया है। जो अपना वोट सपा को डालना चाहते थे उनको रोका गया। ये लोकतंत्र के बहुत खतरनाक संकेत है।

शिवपाल- अखिलेश की मुलाकात पर क्या बोले ?

वहीं चाचा शिवपाल और अखिलेश के एक हो जाने पर जयंत ने कहा कि हम तो सपा के साथ हमेशा साथ रहेंगे। खुशी की बात है जब परिवार में एक होगा तो अच्छे फैसले होंगे और जब की घड़ी होती है तो घर के बड़े, बड़े लोग साथ आते हैं, उसी तरह से और उसी अंदाज़ में मुलायम सिंह जी के जाने के बाद जो एक दूरियां है, उसे दूर करने के लिए अब शिवपाल साथ आए हैं। तो हमें भी ख़ुशी है और हमें भी इस बात का लाभ मिला है।




Source link

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also
Close
Back to top button